कक्षा कक्ष प्रबंधन कौशल के घटक,कक्षा कक्ष प्रबंधन के उद्देश्य

कक्षा कक्ष प्रबंधन कौशल के घटक,कक्षा कक्ष प्रबंधन के उद्देश्य

 
कक्षा कक्ष प्रबंधन कौशल के घटक

कक्षा कक्ष प्रबंधन कौशल

कक्षा प्रबंधन कौशल (Classroom management skills) एक ऐसी शिक्षण तकनीक है जो अध्ययन को कक्षा में अपने गतिविधियों को नियंत्रण मेन रखकर प्रभावपूर्ण कक्षा प्रबंध में सहायता करें और शिक्षण उद्देश्यों को प्राप्त करने में आवश्यकता अनुसार अनुशासनात्मक ढंग से कार्य करने में सफलता प्राप्त कराएं।

कक्षा कक्ष प्रबंधन(Classroom management) कौशल शिक्षक के ऐसे व्यवहार हैं जिनके द्वारा शिक्षक प्रभावशाली शिक्षण अधिगम प्रक्रिया के लिए उचित कक्षा वातावरण उत्पन्न करने तथा छात्रों के व्यवहारों को नियंत्रित करता हुआ उनका ध्यान विषय वस्तु की ओर नियंत्रित करता हुआ उनका धायन विषय की ओर आकर्षित करता है तथा कक्षा के अंत तक उसे बनाएँ रखता है एक  अच्छे अध्यापक की कक्षा प्रबंध कौशल में दक्षता प्राप्त करना अति आवश्यक होता है।  


कक्षा कक्ष प्रबंधन का अर्थ:

कक्षा कक्ष प्रबंधन को अंग्रेजी में classroom management कहां जाता है जो हिंदी का ही अंग्रेजी रूपांतरण है। कक्षा कक्ष प्रबंधन दो शब्दों से मिलकर बना है:-

१. कक्षा कक्ष (classroom)

२. प्रबंधन (management)

एक कक्षा में शिक्षण के लिए या शैक्षिक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए सारी सुविधाएं उपलब्ध होना तथा कक्षा(class) को सुचारू रूप से चलाना ही कक्षा कक्ष प्रबंधन (classroom management) है


कक्षा कक्ष प्रबंधन की परिभाषा

प्रोफेसर एस.के. दुबे के अनुसार: कक्षा कक्ष से अभिप्राय भौतिक तथा मानवीय संसाधनों के मनोवैज्ञानिक प्रबंधन से है जो शिक्षण अधिगम को प्रभावी व दक्षतापूर्ण बनाते हैं।


कक्षा कक्ष प्रबंधन कौशल के घटक (kaksha kaksh prabandhan koushal ke ghatak  in hindi)

कक्षा कक्ष प्रबंधन कौशल के घटक निम्नलिखित हैं जिसे हम नीचे देखेंगे । 

  • अधिगम को रोचक बनाना
  • छात्रों को उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए अभिप्रेरित करना।
  • छात्रों के समुचित विकास के लिए प्रयास करना
  • विद्यार्थी अध्यापक अन्तः क्रिया को प्रोत्साहित करना।
  • अनुशासन होनता पर नियंत्रण करना।
  • वांछित व्यवहार का पुनर्बलन करना।
  • कक्षा प्रबंध (Classroom management) में छात्रों की सहभागिता स्वीकार करना।
  • कक्षा प्रबंध(Classroom management) में अनुशासन को महत्व बताना।
  • सौन्दर्यवातावरण का निर्माण करना।
  • निर्देशों में स्पष्टता होनी चाहिए।

कक्षा कक्ष प्रबंधन के उद्देश्य लिखिए(kaksha kaksh prabandhan ke uddeshy likhiye)

कक्षा कक्ष प्रबंधन के उद्देश्य को हम निम्नलिखित बिंदु के माध्यम से देख सकते हैं-

१. कक्षा कक्ष में शैक्षिक वातावरण का निर्माण करना:

कक्षा कक्ष प्रबंधन का सबसे पहला उद्देश्य कक्षा कक्ष में शैक्षिक वातावरण का निर्माण करना है। एक शिक्षक का यह सबसे बड़ा दायित्व होता है कि वह कक्षा को सुचारू रूप से चला सके यह तभी होगा जब शिक्षक को अपने विषय पर पकड़ होगा साथ ही उन्हें अपने विषय को प्रभावी ढंग से प्रस्तुत करना आना चाहिए ताकि बच्चे शैक्षिक उद्देश्यों को प्राप्त कर सके और कक्षा सुचारू रूप से चल सके तभी कक्षा कक्ष में शैक्षिक वातावरण बना रहेगा अन्यथा बच्चों का मन कक्षा में नहीं कहीं और होगा तो कक्षा का वातावरण खराब होने लगेगा।

२. शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को सरल व प्रभावशाली बनाना:

कक्षा कक्ष का दूसरा महत्वपूर्ण उद्देश्य शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को सरल व प्रभावशाली बनाना होता है। कक्षा में विभिन्न प्रकार के बालक होते हैं कोई बालक किसी भी शिक्षण अधिगम को बहुत जल्दी सीख जाता है तो किसी को सीखने में समय लगता है अतः शिक्षक को इन बातों का ध्यान रखते हुए शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को सरल बनाना चाहिए तथा उन्हें बच्चों के अनुकूल बनाकर प्रभावशाली ढंग से प्रस्तुत करना चाहिए ताकि बच्चे उसे समझ सके।

३. कक्षा में संबंधित तथ्यों के बीच समन्वय स्थापित करना

कक्षा प्रबंधन का तीसरा महत्वपूर्ण उद्देश्य कक्षा में संबंधित तथ्यों के बीच समन्वय स्थापित करना होता है। एक शिक्षक जिस विषय को पढ़ा रहा है उसके लिए उचित शैक्षिक सामग्री का प्रयोग करें ताकि बालक के साथ उन तथ्यों का समन्वय हो सके। कक्षा में संबंधी तथ्यों का निर्माण कक्षा के अनुरूप करना चाहिए ना कि शिक्षक के अनुरूप।

४. भौतिक एवं मानवीय संसाधन का उचित प्रयोग:

कक्षा कक्ष को हम तभी सुचारू रूप से चला सकते हैं जब हम उनके शैक्षिक उद्देश्यों को प्राप्त सक्षम हो। इसके लिए शिक्षक को भौतिक एवं मानवीय संसाधन का उचित स्थान पर प्रयोग करना आना चाहिए। 

५. कक्षा कक्ष को संपूर्ण सुविधाओं से परिपूर्ण करना:

एक कक्षा कक्ष तभी कक्षा कहलाता है जब उसमें शिक्षण के या कक्षा कक्ष के सभी सुविधाएं उपलब्ध हो जैसे श्यामपट्ट, अच्छी लाइफ, बच्चों के बैठने की सुविधाएं, कक्षा का वातावरण, चॉक डस्टर, पुस्तके, चार्ट, डस्टबिन जैसे महत्वपूर्ण सुविधाएं कक्षा में उपलब्ध होना चाहिए। और एक शिक्षक होने के नाते शिक्षक का दायित्व होता है कि कक्षा में यह सभी सुविधाएं है या नहीं इन सभी की परिपूर्ति का दायित्व शिक्षक के पास होता है।

६. अधिगम को स्थायी बनाना

कक्षा कक्ष प्रबंधन कौशल का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य यह भी है कि शिक्षक ऐसा क्या करें कि वह जो कुछ भी बच्चों को सिखा रहे हैं वह स्थायी रूप में बने रहे। अधिगम बच्चों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है अधिगम के बिना बच्चे आगे नहीं बढ़ पाएंगे। कक्षा कक्ष में जो कुछ भी पढ़ाया जाएं या सिखाया जाए उसे इतने प्रभावी ढंग से कराना चाहिए कि बच्चों में व स्थायी रूप से बैठ जाए। और इसका दायित्व एक शिक्षक के ऊपर होता है कि वह किस प्रकार से अपने विषयों को प्रस्तुत करता है।

७. विद्यार्थी एवं अध्यापक के बीच संबंध स्थापित करना:

जब तक एक कक्षा में विद्यार्थी एवं अध्यापक के बीच एक अच्छा संबंध नहीं होगा तब तक बच्चे अधिगम नहीं कर पाएंगे। इसलिए अध्यापक को अपने विषय पर पकड़ तथा अनुशासन एवं अच्छी चरित्रवान होना चाहिए। एक शिक्षक के अंदर इतनी शक्ति होनी चाहिए कि वे बच्चों की कमियों को जान सके और उन कमियों को पूरा करने के लिए उन्हें अलग-अलग तरीकों से उन्हें प्रभावित करना आना चाहिए तभी एक विद्यार्थी एवं अध्यापक में एक अच्छा संबंध स्थापित होगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ