वह भारत देश है मेरा कविता क्लास 5

 वह  भारत देश है मेरा

वह भारत देश है मेरा कविता में कवि ने भारत के महान होने के बारे में बताया है कि पहले भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था कविता में यह भी बताया गया है कि यहां के हर डाल डाल में सोने की चिड़िया का बसेरा है यहां के लोग सत्य, अहिंसा और धर्म के मार्ग पर चलने वाले हैं यहां जो ऋषि मुनि होते हैं वह भी भगवान या प्रभु का नाम जपते रहते हैं या स्मरण करते रहते हैं कवि ने भारत के बालक को मोहन और बालिका को राधा बताया है। कवि यह भी कहते हैं कि भारत में सबसे पहले सूरज का उदय होता है साथ ही यहां विभिन्न तरह के और अद्भुत तरीके से त्योहारों को मनाया जाता है कहीं पर दिवाली की जगमगाहट दिखाई पड़ती है तो कहीं पर होली के मेले लगते हैं और चारों ओर खुशियों का माहौल, प्रेम रंग का माहौल बिखरा हुआ रहता है। यहां के पहाड़ और मंदिर इतनी बड़ी बड़ी है कि ऐसा प्रतीत होता है कि आसमान से बातें कर रहे हो कवि यह भी कहते हैं कि यहां के जो लोग हैं उनमें इतनी ज्यादा विश्वास और भरोसा है कि वह अपने घरों में ताला तक नहीं लगाते हैं इस प्रकार कवि ने भारत को सोने की चिड़िया कहते हुए भारत को अन्य देशों से महान बताया है।


बताइए

क) डाल डाल पर सोने की चिड़िया का क्या अर्थ है?

उत्तर : डाल डाल पर सोने की चिड़िया का अर्थ है कि भारत जैसे महान देश को बनाने के लिए यहां के हर देशवासी एकजुट रहते हैं जहां डाल डाल पर सोने की जैसे चिड़ियों की बसेरा है।


ख) सबसे पहले सूर्योदय कहां होता है?

उत्तर : सबसे पहले सूर्योदय भारत में होता है।


ग) भारत में सवेरा कैसे होता है?

उत्तर : भारत में सवेरा भगवान को स्मरण करते हुए हंसी खुशी और प्रेम पूर्वक होता है।


उत्तर लिखिए- 

क) भारत के लोग किस मार्ग पर चलने वाले हैं?

उत्तर: भारत के लोग सत्य अहिंसा और धर्म के मार्ग पर चलने वाले हैं।


ख) कविता में राधा और कृष्णा का उल्लेख क्यों हुआ है।

उत्तर : कविता में राधा और कृष्णा का उल्लेख इसलिए हुआ है क्योंकि जिस प्रकार राधा और कृष्ण जो अपने देश यानी कि वृंदावन से जिस प्रकार से प्रेम रखते थे और उसे हर परिस्थितियों एवं विपत्तियों से बचाने के लिए तत्पर रहते थे ठीक उसी प्रकार यहां की जो बालक एवं बालिकाएं हैं वह भी अपने देश से बहुत प्रेम रखते हैं और उनकी हिफाजत एवं हर चुनौतियों का सामना करने के लिए तत्पर रहते हैं इसलिए कविता में कवि ने राधा और कृष्ण का उल्लेख किया है।


ग) भारत के त्योहार अलबेले कैसे हैं?

उत्तर : जैसे कि भारत में कई प्रकार के जाति,धर्म के लोग निवास करते हैं यहां हिंदू ,मुस्लिम, सिख, ईसाई और भी कई तरह के जाति के लोग निवास करते हैं उनके धर्म एवं उनके मानने के तरीका अलग-अलग है जिसके कारण यहां हर पल में किसी ना किसी का त्यौहार या पर्व होता ही है जिसे मनाने का रीति-रिवाज  भी अलग-अलग हैं और सभी एक साथ मिलजुल कर और हंसी खुशी से बनाते हैं।इसलिए कवि ने भारत के त्योहार को अलबेला यानी की अद्भुत बताया है क्योंकि यहां के जो त्यौहार है उन्हें अद्भुत तरीकों से मनाया जाता है।


घ) 'ताला ना डालने' से क्या तात्पर्य है?

उत्तर : ताला डालने से तात्पर्य है कि भारत के जो निवासी है वे उनमें इतनी ज्यादा विश्वास है कि वह अपने घरों में ताला तक नहीं लगाते हैं। यहां तक की मंदिरों, गुरुद्वारों, मस्जिदों एवं चर्च में भी कभी ताला नहीं लगाया जाता है।


ठीक उत्तर पर सही चिह्न लगाइए-

क) चिड़िया कहां रहती हैं?

      i.पेड़ पर        ii.डाल डाल पर         iii.घरों में

ख) ऋषि मुनि क्या करते हैं?

   i. भगवान का नाम जपते हैं    ii. यज्ञ करते हैं   iii. पूजा करते हैं

ग) किस त्योहार पर जगमगाहट होती हैं?

  i. होली             ii. रक्षाबंधन         iii. दिवाली

घ) पग-पग पर किस का डेरा लगता है?

  i. सत्य का       ii. प्रेम का     iii. सत्य अहिंसा और धर्म का

उत्तर :

क) ii. डाल डाल पर

ख) i. भगवान का नाम जपते हैं

ग) iii. दिवाली

घ) iii. सत्य अहिंसा और धर्म का


अर्थ लिखिए

अलबेलों की इस धरती के त्यौहार भी है अलबेला
कहीं दिवाली की जगमग है कहीं होली के मेले
जहां रंग रंग और हंसी खुशी का चारों ओर है घेरा
वह भारत देश है मेरा।

अर्थ : यह पंक्ति राजेंद्र धवन के कविता 'वह भारत देश है मेरा' से लिया गया है कवि इस पंक्ति के माध्यम से कहते हैं कि विभिन्नता वाले देश भारत के धरती पर मनाए जाने वाले त्योहार बहुत ही अद्भुत है कहीं दिवाली की जगमग होती है तो कहीं होली के मेले लगे होते हैं कवि ये भी कहते हैं कि भारत जैसे महान देश में चारों तरफ प्रेम रंग का और हंसी खुशी का माहौल बना रहता है इसलिए भारत देश महान है। इतनी विभिन्नता होने के बावजूद भी जहां सभी एक साथ मिलजुल कर रहते हैं।


कविता के उन पंछियों को लिखिए जिनका अर्थ नीचे दिया गया है-

यहां पर बहुत ऊंचे और विशाल मंदिर तथा शिवालय हैं। यहां के किसी भी नगर के किसी भी दरवाजे पर लोक ताला नहीं लगाते हैं यहां सुबह और शाम आखर प्रेम का संदेश देते हैं।

उत्तर : जहां आसमान से बातें करते, मंदिर और शिवालय,

जहां किसी नगर में किसी द्वार पर कोई ना ताला डालें

प्रेम की बंशी जहां बजता, आता शाम सवेरा

वह भारत देश है मेरा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.