व्याख्यान विधि के गुण व दोष

 व्याख्यान विधि क्या है

यह विधि अत्यंत प्राचीन विधि है इस विधि में केंद्र बिंदु अध्यापक होता है। अध्यापक विशेष सामग्री को विद्यार्थियों के समक्ष भाषण के माध्यम से रखता है और विद्यार्थी उसके सामने बैठकर सुनते हैं अध्यापक इसमें घर पर विषय सामग्री को पहले से तैयार कर लेता है और तैयारी के अनुसार ही कक्षा में सुना देता है। इस विधि में अध्यापक को मुख्यत: दो कार्य करने होते हैं -
१. विषय वस्तु का चयन कर तैयारी करना।
२. कक्षा में विषय वस्तु का भाषण के रूप में प्रस्तुतीकरण।

       इस विधि में जहां शिक्षक को एक अच्छा वक्ता होना चाहिए वही विद्यार्थी में भी श्रोता के गुण होने चाहिए साथ ही साथ विद्यार्थी को भाषण या व्याख्यान को नोट करते रहना चाहिए एवं आवश्यक हो तो समय-समय पर प्रश्न भी पूछना चाहिए।

व्याख्यान विधि के गुण

१. इस विधि द्वारा ज्ञान तीव्र गति से दिया जा सकता है।
२. या विधि अध्यापक के लिए सुविधाजनक है क्योंकि कक्षा में आते ही अध्यापक भाषण देने लगता है और भाषण पूरा कर कक्षा से चला जाता है। इससे वह विद्यार्थियों के विभिन्न समस्याओं को हल करने से बच जाता है।
३. इस विधि के द्वारा हिंदी भाषा का पाठ्यक्रम आसानी से पूर्ण किया जा सकता है।
४. भारतीय परिवेश में कक्षाएं बड़ी होती है तथा शिक्षण सामग्री का आभाव सा रहता है। यहां तक की कई स्थानों पर श्यामपट्ट भी उपलब्ध नहीं होते अतः यह विधि अनुकूल है।
५. भाषण विधि से विषय सामग्री के साथ साथ विद्यार्थी में भी भाषण (विषय)संबंधी योग्यता का भी विकास होता है।
६. इसमें विद्यार्थी को भी अधिक परिश्रम नहीं करना पड़ता है वह आराम से भाषण सुनता है।
७. यह विधि अधिक खर्चीली नहीं है।
८. इसमें विद्यार्थी अपने कानों का सही उपयोग करना सीख जाते हैं अर्थात् श्रवण कौशल का विकास होता है।
९. यह विधि अन्य विधियों में सहायक होता है और अन्य विधि के साथ साथ इस विधि का प्रयोग किया जाता है।

व्याख्यान विधि के दोष

१. इस विधि का प्रयोग केवल उच्च कक्षाओं में ही किया जा सकता है निम्न कक्षाओं में नहीं।
२. इस विधि में विद्यार्थी के स्तर का ध्यान नहीं रखा जाता है, वह सुनना चाहे या ना चाहे उसे भाषण सुनना ही पड़ता है।
३. इस विधि के द्वारा बच्चों के ज्ञान की तत्परता की ओर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया जाता है और शिक्षक व्याख्यान करते जाता है।
४. छात्रों में निश्चित रूप से कार्य करने की निश्चित क्षमता नहीं हो पाता है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां